सोमवार, 28 फ़रवरी 2011

शांति अधिकारी



ज्यू
अनेक नदियों
का जल,
उस अचल प्रतिष्ठावान
जलधि,
परिपूर्ण जलाजल
से मिलकर,
नहीं करते
उसको तनिक विचल,
त्यू ही
सर्वकामना
जगत की
स्वतः मिले,
न पर
जो बुद्धि भटकती,
है वही
परम शांति
अधिकारी,
न वो
हों जो
कामना पुजारी |

============

भावानुवाद गीता श्लोक संख्या ७०

आपूर्यमाणमचलप्रतिष्ठं-
समुद्रमापः प्रविशन्ति यद्वत्‌ ।
तद्वत्कामा यं प्रविशन्ति सर्वे
स शान्तिमाप्नोति न कामकामी ॥

2 टिप्पणियाँ:

सदा ने कहा…

बेहतरीन ।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

bahut pyari rachna...:)

एक टिप्पणी भेजें