सोमवार, 1 नवंबर 2010

जीत- हार



नैन
मूंद लेने से,
ज्योति,
निज का
अस्थित्व
कहाँ खोती है ?

तन के
हारे,
हार न
जब तक,
मन की
हार
नहीं होती है |

सत् की
राह पे
हरिश्चंद्र ने
राज,
देश,
कुटुंब- तन
हारा

पग - पग
हारे,
किन्तु,
परन्तु,
वचन
पूर्ति का लक्ष्य
न वारा |

हर क्षण
होती
दीन दशा
संग
अक्षय कीर्ति
सबल होती है

तन के
हारे,
हार न
जब तक,
मन की
हार
नहीं होती है |

आदर्श
की
रक्षा हेतु,
राम,
अवध छोड़
वन ओर सिधारे

क्या दुर्भाग्य
नहीं था
जो वे
साथ
सिया का
वन में हारे ?

भुज बल
प्रिय का
साथ मिला
जो
राज धर्म
हेतु फिर वारे

हर क्षण
होते
भाग्य - ग्रहण
संग
उनकी जयघोष
प्रवल
होती है |

तन के
हारे,
हार न
जब तक,
मन की
हार
नहीं होती है |

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही गहन चिंतन वाली पोस्ट...
    गद्य को पूर्णता देती कविता भी सोचने को विवश करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति - आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. तन के
    हारे,
    हार न
    जब तक,
    मन की
    हार
    नहीं होती है |

    bahut sateek baat hai .. bahut achchi kavita

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं