रविवार, 29 जुलाई 2018

नारद राम संवाद

तुलसी कृत रामायण के अरण्य कांड में समाहित नारद-राम संवाद से इनदिनों रूबरू होने का मौका मिला जिसके पार्श्व में एक बहु परिचित कथा है जिसमे विवाहोन्मुख नारद को बन्दर की सूरत देकर भगवान विष्णु उनके विवाह में बाधा डाल देते है जिसके फलस्वरूप नारद भगवान विष्णु को क्रोध में आकर उन्हें  नारी विरह में तडपने का श्राप दे देते है और राम को उसी श्राप को अंगीकार कर सीता विरह मे वन-वन भटकना पडता है | पढ़कर आनंद आया तो सोचा कुछ उनके शब्दों में अपने शब्दों का घालमेल कर यहाँ प्रस्तुत करूँ, इस निवेदन के साथ की महिला पाठकगण कविता में जहाँ-जहाँ नारी या उसका प्रयायवाची शब्द आया है वहाँ उसे माया का स्वरूप मान कर (जो उनके केस मे नर हो सकता है) कविता का आनंद लें | मर्यादा पुरुषोतम राम के प्रति मन मैला न करें 😊😊

देखि
विरह व्याकुल अति
स्वयं विरागी राम,
मुनि श्रेष्ठ
सोचन लगे
मम श्राप
लियो सुखधाम |

ऐसे
प्रभु दरस
को जाऊ,
पुनः न अवसर
ऐसो पाऊ |

मुनि
राम धुन
गावत आयो,
चरण परे,
प्रभु
ह्रदय लगायो |

कुशलछेम
विविध
करी बाता,
सहज जानी
पूछेउ रघुनाथा |

नाथ
प्रश्न एक
मम हिय माहि,
धन्य होऊ
यदि हल
होई जाही |

काल एक
माया
प्रभु तोरी,
वरण नारी
हिय
आयेसु मोरी |

चाहउ
नाथ
गवाऊ न
मौका,
मोहि कहहू
केही कारण
रोका ?

हर्षित राम
कहहि
एही बाता,
हिय-पट
खोली सुनहु
मुनि-ताता,

शरण
जे मोहि,
तजि अन्य
भरोसा,
मात भाती
हरहु तिन्ह
दोषा |

मातु
स्नेह
शिशु-पुत्र
घनेरी,
प्रौढ़ होय
जे बात
न फेरी |

तिमी
शिशु-पुत्र
मम
भक्त अमानी,
प्रोढ़ सो जो
समझाहि
निज ज्ञानी |

काम, क्रोध
दोउ को
रिपु जानू,
शिशु पुत्र
रक्षक
मोहि मानू |

एही
सब जानी
ज्ञानी
मोहि भजहि,
प्रवीण होय
भक्ति
नहीं तजहि|

काम, क्रोध
मद लोभ सब,
मोह
के सृजनहार,
तामह
अति दुखदायनी
मायारूपी
नार |

सुनु मुनि
साक्ष्य
पुराण, श्रुति
संता,
मोह उपवन
तो
नारी बसंता |

जप, तप
नेम
जलाश्रय जानो,
सोष सो
लेही
त्रिय-ग्रीष्म
सो मानो |

पाप
उलुकगण
सुखद खरारी,
ऐसो
गहन निशा
सम नारी |

ज्ञानी
कहहि
बनसी सम
नारी
बुद्धि, बल
सील
जो मत्स्य
बेचारी |

अवगुण मूल
है कष्टप्रद,
विविध
दुखों की
खान,
तुम्ही बचावन
हेतु मुनि
बन्यो
प्रणय व्यवधान |😊

सुनी
प्रभु के
वचन अस,
मुनि
हिय भयो
संतोष,
ऐसो
करुणावान
पर
काको नहीं
भरोस | 😊

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें